गीत

गीत-राखी के राखी लेबे लाज

बंधना म बांध डारेवं भाई, राखी के राखी लेबे लाज। सुघ्घर कलाई तुहर सोहे, माथे के टीका सोहे आज।। किंजर-किंजर के देवता धामी, बदेंव मैं तुहर बर नरियर। लाख बछर ले जी हव भइया, नाव हो जाये तुहर अम्मर। तिरिया जनम ले हवं भइया, बहिनी के राखी पहिरबे आज।। रहे बर धरती छांव बर अगास, […]

कविता

चलो रे चलो संगी पेड़ लगाबो रे

कोनो धरौ रापा संगी कोनो धरौ झउहा एक ओरी आमा अऊ दूई ओरी मउहा धरती दाई ला हरियाबो रे चलो रे चलो संगी पेड़ लगाबो रे झन काटो रूखराई, यहू मां हवै परान ग रूख राई जंगल झाड़ी, हमर पुरखा समान ग आमा अऊ लीम मा, बसे हे भगवान ग पीपर कन्हइया अऊ, बर हनुमान […]

कविता

मया के चंदा

देख सुघ्घर रूप मा, मोर मन हा मोहागे, तोरेच पिरित मा धारे-धारे मा बोहागे। सुरता हाबे मेढ़ पार के, चटनी अऊ बासी, भाड़ी मा चघके देखना, मुस्मुसाती हांसी, सुरता मा तोर, जुक्खा जीव हरियागे। काली आहूं कहिके, दगा में डारे, तरिया पार मा देख, हाभा कइसे मारे, मिलवना के क्रिया ला, तै कइसे भुलागे॥ बिसरना […]

कविता

तीजा तिहार म

सुनो बहिनी, सुनव दीदी, नवां जमाना के विचार मा। धरती दाई ला सजाबोन ऐसों के तीजा-तिहार मा॥ हरियर लुगरा के संगे-संग, दाई के अचरा ला हरियाबो। रुख-रई नवां-नवां हम लगाबोन सबो खेत-खार मा॥ जड़ी-बूटी बन अऊ तुलसा रतनजोत खेत के सियार मा। डीजल, तेल घलो मिलय अब पम्प, ट्रेक्टर अऊ कार मा॥ कोनहो झन राहय […]

व्यंग्य

तीजा नई जावंव

बड़े मौसी काबर नई आय हे ओ दाई। ओखर छोटे नोनी के नोनी-बाबू अवइया हे का? अउ छोटे मोसी ह घलो नइ आय हे का दाई? ह हो ओखर सास ह पटऊहां ले गीर गे हे अउ ओखर बाखा पकती मन दरक गे हे। बपरी हर सास महतारी के सेवा मा, ऐसो के तीजा तिहार […]

कहानी

फरहार के लुगरा अउ रतिहा के झगरा

एक बार वर्मा जी के घर गे रेहेंव। वर्मा जी ह अपन सबो लइका मन बर एके रंग के कुरता अउ एके रंग के पेंठ बनवा दे राहय। देवारी के भीड़ में भी वर्मा जी के लइका मन कलर कोड से चिनहारी आवय। अइसे लगय जइसे सबो झन एके इसकूल के पढ़इया लइका आयं। मैं […]

व्यंग्य

टुरी देखइया सगा

हमर गांव-देहात म लुवई-टोरई, मिंजई-कुटई के निपटे ले लोगन के खोड़रा कस मुंह ले मंगनी-बरनी, बर-बिहाव के गोठ ह चिरई चिरगुन कस फुरूर-फुरूर उड़ावत रइथे। कालिच मंगलू हल्बा के नतनीन ल देखे बर डेंगरापार के सगा आय रिहिस। चार झन रिहिन। दू झन सियनहा अउ दू झन नवछरहा टुरा। ठेला करा मोला पूछिस- ‘कस भइया, […]

गीत

गीत : दीन दयाल साहू

मै हा नहकाहूं डोगा पार,आवत हे प्रभु मोर द्वार। तैहा जग के ,आये पालन हार ये मोरे स्वामी। राम लक्ष्मण दूनो भाई ,संग मा हावे सीता माई। तैहा जग के ,आये पालनहार। नइ डूबो कभू। मझदार,सेवा में आयेव मल्हार । तैहा जग के ,आये पालानहार मोरे स्वामी । तोर चरण मैहा परवार हूं ,सब सागर […]