कहानी किताब कोठी

बुढ़ुवा कोकड़ा