कविता गीत

मधुमास

मन धरती के झुमरत हे आज रे  चंदा चंदैनी के मड़वा छवाय  बांधे मउर खड़े मधुमास रे  मन धरती के झुमरत हे आज रे कुहकत हे कोइली हर डारा-डारा म  नेवता देवत हावै पारा-पारा म  नहावै धरती चंदैनी धारा म  धीरे धीरे मुसकावै अकास रे  मन धरती के झुमरत हे आज रे सरसों फूल लुगरा […]

कविता गीत

तोर दुआरी

सुरता के दियना, बारेच रहिबे,रस्ता जोहत तैं ढाढेंच रहिबे।रइही घपटे अंधियारी के रात,निरखत आहूं तभो तोर दुआरी। मैं बनके हिमगिरी,तैं पर्वत रानी,मौसम मंसूरी बिताबो जिनगानी।कुलकत करबो अतंस के हम बात,निरखत आहूं तभो तोर दुआरी। मैं करिया लोहा कसमुरचावत हावौं,तैं पारस आके तोर लंग मैं छुआजाहौं।सोनहा बनते मोर,बदल जाही जात,निरखत आहूं तभो तोर दुआरी। आये मया […]

कविता गीत

बिहान होगे रे

बैरी-बैरी मन मितान होगे रे हमर देश म बिहान होगे रे तीन रंग के धजा तिरंगा धरे हे भारत मइया केसरिया हर त्याग सिखोथे सादासत्य बोलइया हरियर खेत के निसान होगे रे। हमर देश म बिहान होगे रे बीच म चरखा गांधी बबा के गोठ ल सुरता करथे सत्य अहिंसा के रद्दा छोड़े ले गोड़ […]

कविता गीत

छत्तीसगढ़िया

छत्तीसगढ के रहइया,कहिथें छत्तीसगढ़िया, मोर नीक मीठ बोली, जनम के मैं सिधवा। छत्तीसगढ के रहइया,कहिथें छत्तीसगढ़िया।  कोर कपट ह का चीज ये,नइ जानौ संगी, चाहे मिलै धोखाबाज, चाहे लंद फंदी। गंगा कस पबरित हे, मन ह मोर भइया, पीठ पीछू गारी देवैं,या कोनो लड़वइया। एक बचन, एक बोली बात के रखइया, छत्तीसगढ़ के रहइया, कहिथें […]

कविता

छत्‍तीसगढी कुण्‍डली (कबिता) : कोदूराम दलित

छत्‍तीसगढ पैदा करय, अडबड चांउर दारहवय लोग मन इंहा के, सिधवा अउ उदारसिशवा अउ उदार, हवैं दिन रात कमाथेंदे दूसर ला भात, अपन मन बासी खाथेंठगथैं ये बपुरा मन ला, बंचकमन अडबडपिछडे हावय हमर, इही कारन छत्‍तीसगढ । ढोंगी मन माला जपैं, लम्‍मा तिलक लगायहरिजन ला छूवै नहीं, चिंगरी मछरी खायचिंगरी मछरी खाय, दलित मन […]

कविता

छत्‍तीसगढी कुंडली : रंगू प्रसाद नामदेव

बासी खाना छूटगे, आदत परगे, चाय पेट भरे ना पुरखातरे, ये कईसन बकवाय ये कईसन बकवाय, सबो दुख-सुख मा लागू देंवता अतरे फूल, चाय तो पंहुचे आगू कह रंगू कविराय, सुनगा भाई घांसी सबला होना चाय, बिटामिन छोडे बासी । रंगू प्रसाद नामदेव

कविता

सोसन अउ कानून (कबिता ) : सुशील भोले

बछरू हा एक दिन गाय जघा पूछिसदाई सोसन काला कहिथे ! तब गाय कहिस – बेटा तैंहा जुच्‍छा पैरा ला,पगुरावत रहिथसअउ हमर मालिक हा मोर थन के दूध लादूह के अपन बेटा ला पियावत रहिथेइही ला तो सोसन कहिथे ! तब बछरू हा गुसियावत कहिसदाई ! का ये देस मा अइसन कानून नइयेजेमा हम सोसन […]

कविता

भूख (कबिता) : डॉ. राजेन्‍द्र सोनी

बुधारूकठल कठल के रोथेमनटोरा ओखरचूमा लेथेचूमा ह रोटी नोहेमनटोरा हा सोंचथेमयबुधारू खातिररोटी बन जातेंव । डॉ.राजेन्‍द्र सोनी चित्र http://feedingavillage.org से साभार